तुरंत दस्त रोकने के उपाय 100% आसान इलाज, आयुर्वेदिक नुस्खे

diarrhea ka gharelu ilaj, loose motion ka ilaj, loose motion treatment in hindi

तुरंत दस्त का इलाज बताये और रोकने की दवा यह रोग ज्यादा भोजन करने से, गलत या दूषित भोजन से, दूषित पानी पिने से, सड़ा गला हुआ खाने से, आंतों में आहार के सड़ने से अत्यधित दवाइयों के सेवन से आदि इन निम्न कारणों से दस्त लग सकते हैं.

और पुराने दस्त डायरिया होने पर रोगी की हालत बिलकुल पिचक जाती है, वह बिकुल थक जाता है व कमजोर महसूस करने लगता है. लेकिन अब चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि हम घरेलु इलाज में यानी रामबाण दस्त रोकने के तरीके बताने वाले है जिनके जरिये आप जल्द ही इससे चुटका पा सकेंगे.

मरोड़ : रोगी को दस्त के वजह से पेट में मरोड़ भी होने लगती हैं, इसकी कई अन्य वजह हो सकती हैं. अगर आपको मरोड़ आ रही है तो भी कोई चिंता की बात नहीं है हम दस्त में मरोड़ के लिए भी उपाय बताएंगे साथ ही दोनों समस्याओ के बारे में पूरी जानकारी के साथ आपको समाधान बताएंगे diarrhea ilaj of loose motion treatment in Hindi.

दस्त का इलाज बताओ क्या है

Dast Ka ilaj Kya Hai bataye

loose motion ka ilaj,

1. काली हरड़ 6 ग्राम और 12 ग्राम सूखे आंवले दोनों को मिलाकर अच्छे से बारीक़ कर ले. अब इसे 1/2 ग्राम की मात्रा सुबह और शाम के समय पानी के साथ फांक लें, खा जाए. आपको चाहे कैसा भी दस्त हो, पुराने से पुराना दस्त भी इससे ठीक हो जाते है, यह 101% आपको लाभ करेगा अचूक देसी इलाज है.

2. दस्त रोकने के उपाय में 1-1 घंटे के अंतराल में आधे कप गर्म पानी में एक डेढ़ चम्मच अदरक के रस को मिलाकर पीते रहने से कैसा भी दस्त हो ठीक हो जाता है. जैसे अभी आपने एक खुराक ली तो अब अगली खुराक 1 घंटे बाद वापस ले इस तरह बार बार यह खाने से तुरंत आराम मिलता है.

बिना दवा के इलाज

3. 35 ग्राम सूखा आंवला ले और इसकी चटनी बना ले अब रोगी को लेटा दे और उसकी नाभि के आसपास गोल आकर आंवले की इस चटनी का घेरा बना दें, बस नाभि के आसपास की जगह को खुली ही रखे, अब इस खली जगह में अदरक का रस मिला दें, इस तरह नाभि के आसपास घेरा बनाकर उस घेरे में अदरक का रस मिला देने से दस्त का तुरंत उपचार होता है. रोगी को 20 मिनट तक लेटाएं रखे.

4. दस्त ठीक करने के लिए जीरा और सौंफ दोनों को बराबर मात्रा में लेकर गैस पर भून ले और बारीक़ पीस ले अब जीरे और सौंफ के इस मिश्रण को एक चम्मच लेकर खाये पानी के साथ ले सकते है. इस तरह दिन में 4-5 बार इस प्रयोग को करने से पेट में मरोड़ का उपचार होता है साथ ही दस्त भी दूर होते हैं.

5. आधा कप चाय ले और इसमें आधा कप पानी डालकर इसे पूरा भर ले और पि जाए. इस छोटे से घरेलु उपाय से दस्त में तुरंत लाभ मिलता है, लूसे लोशन के इलाज में कारगर और आसान नुस्खा है. इस आसान से नुस्खे को दस्त में कई समय से उपयोग में लाया जा रहा है.

दस्त रोकने के उपाय बताओ

6. (जीरा और दस्त) 6 ग्राम जीरे को भूनकर अच्छे से बारीक़ पीस ले अब जल्द ही दही मट्ठा, लस्सी जो भी आपके पास हो उसमे मिलाकर पि जाए. यह उपाय दस्त रोकने के लिए जल्द ही असर दिखाता है.

dast ka ilaj, dast ka ilaj in hindi, dast rokne ke upay, dast treatment in hindi

  • कच्चे बेर खाने से दस्त अतिसार मिट जाते है
  • दस्त होने पर सोंठ और अजवाइन या फिर अजवाइन और अदरक को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर पिने से डायरिया में तुरंत लाभ होता है.
  • अनार के पत्ते पानी में पीसकर पिने से डायरिया यानि दस्त ख़त्म हो जाते है
  • भोजन के बाद 200 ग्राम छाछ मट्ठे में भुना हुआ जीरा एक ग्राम और काला नमक आधा ग्राम मिलाकर पिने से दस्त आने बंद हो जाते है.
  • गाय के मक्खन में शहद मिलाकर चाटने से खुनी दस्त में तुरंत आराम मिलता है.
  • दस्त में 50 ग्राम चावलों को 250 ग्राम पानी में भिगो दें और दो घंटे बाद इस पानी में मिश्री मिलाकर पिने से खुनी दस्त बंद हो जाते है.
  • 1 नीबू के रस को गाये के दूध में मिलाकर पिने से अत्यंत लाभ होता है, लूसे मोशन ठीक हो जाता हैं.
  • दस्त होने पर 4-5 छोटी इलाइची ले और 4 कप पानी में डालकर उबालिये जब पानी 3 कप ही रह जाए तो गैस बंद कर दे व फिर जब यह पिने लायक ठंडा हो जाए तो रोगी को पीला दे. इस प्रयोग दिन में 3-4 घंटे के बाद करते रहे रामबाण लाभ होगा.
  • गर्मी के दिनों में दस्त diarrhea होने पर 10-15 सिंघाड़े खाकर लस्सी, दही, छाछ मट्ठे का सेवन करे.
  • दस्त में मुनक्क के बीज और संतरे के छिलके दोनों को सुखाकर इनका चूर्ण बना लें और बराबर मात्रा में लेकर पानी में मिलाकर खाये पि जाए. यह dast ke ilaj में बेहद लाभप्रद होता है.

दस्त आंव पेट में मरोड़ का इलाज

  • दस्त में सूखे बेर, पुराना गुड़ और कालीमिर्च बराबर मात्रा में लेकर पीस ले. इस चूर्ण को 10-15 ग्राम की मात्रा खाने से पेट में मरोड़ का इलाज हो जाता हैं.
  • 30 ग्राम बेर के पत्ते और 20 ग्राम जीरा पानी में पीसकर पिलाने से मरोड़ और दस्त दोनों में लाभ होता है.
  • इसबगोल के बीज भूनकर पीस ले 30 या 50 ग्राम की मात्रा में इस चूर्ण का सेवन करने से ांव देकर आने वाले दस्त लूसे मोशन व मरोड़ में तुरंत लाभ होता हैं.
  • दस्त होने पर मिटटी के बर्तन में अफीम को रखकर सेंक लें. सरसो के दाने के बराबर इस अफीम को खाने से सभी तरह के दस्त मरोड़ आदि मिट जाते हैं.
  • नीबू रस और अदरक का रस दोनों एक-एक चम्मच ले और थोड़ी सी कालीमिर्च. इन सभी को मिला ले और सेवन कर लें.
  • पेट में मरोड़ और दस्त का इलाज में अदरक के टुकड़े को मुंह में रखकर चूसने से भी मरोड़ ठीक होती है.

“बताये गए दस्त के घरेलु उपाय को आप बच्चों के लिए भी आजमा सकते हैं, व बच्चों में अधिक दस्त लूसे मोशन होने पर डॉक्टर से इलाज करवाए.

pet me marod ka ilaj, pet me marod ka ilaj in hindi,
पेट में मरोड़ और दस्त

दस्त में क्या खाये और क्या नहीं खाना चाहिए

मट्ठा दस्त लूसे मोशन में बहुत फायदेमंद होता हैं. इसके लिए आप दिन में चार से पांच बार तक मट्ठा छाछ पिए, यह रामबाण लाभ करता है हर तरह के दस्त को शांत करता है. आधा किलोग्राम गाजर लेकर उसमे पानी मिलाकर उबाले लें. इसमें नमक मिलाकर हर आधा घंटे में थोड़ा-थोड़ा करके सेवन करे. उबली हुई गजरे और उनका रस दोनों का उपयोग बहुत फायदा करता हैं.

  • दो केलों को दही इलाइची के साथ दिन में एक बार खाना चाहिए, केलों का यह घरेलु उपाय बहुत लाभ करता है.
  • अपच के कारण होने वाले दस्तों में काला नमक, नीबू और अदरक खाने से लाभ होता है, मेथी का साग खाने और उसके दाने एक चम्मच भर को पानी के साथ लेने से भी लाभ होता है. फलों में केलों का सेवन दस्तों में लाभ पहुंचाता है.
  • लहसुन आंतो के कीटाणुओं को मरने और पाचनशक्ति का सुधर करने में सहायक होता है. कीटाणुओं या बैक्टीरिया आदि के कारन होने वाले दस्तों में इसका उपयोग जरूर करना छाइये. रात में अपनी उम्र और दस्त की तीव्रता के अनुसार दो कलियों से लेकर दस कलियों को छीलकर पानी से भरे गिलास में दाल दीजिये. सुबह उठकर पहले लहसुन की कलियाँ खा लें और उसके साथ उसका पानी पीते जाए.

दस्त की कमजोरी दूर करने के लिए

  • दस्त की कमजोरी :- दिन में तीन बार एक प्याला अनार का रस लेने से दस्त लगना कम हो जाता है और शरीर की खोई हुई शक्ति वापस मिल जाती है. सहजन की कलियों का रस एक छोटा चम्मच चाय का चम्मच भर निकाले. इसमें आधा चम्मच शहद मिलाये इसे दिन में तीन बार इतनी ही मात्रा में लें. इसके साथ कच्चे नारियल का रस एक गिलास पिए. इससे रोगी को दस्तों में आराम मिलता है.

भरपूर मात्रा में पानी पिए

  • दस्त ज्यादा होने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है इसी वजह से डिहाइड्रेशन होने का खतरा भी बढ़ जाता हैं. इससे बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पिए और ORS मिला हुआ पानी पिए, बाजार से इलेक्ट्रोल का पैकेट लेकर उसका भी सेवन करे. हो सके तो नारियल पानी, मट्ठा, लस्सी, संतरे का रस आदि भी लेते रहे यह डिहाइड्रेशन से बचाते हैं.
  • इस लेख के अगले पेज को भी अवश्य ही पड़ें वहां हमने बच्चों में दस्त की शिकायत के बारे में भी बताया हैं – NEXT PAGE

दोस्तों इस तरह पेट में मरोड़ और दस्त रोकने के उपाय क्या है बताएं, dast ka ilaj kya hai के जरिये कर सकते है, यह रामबाण उपचार करते हैं. इसके अलावा पानी साफ़ स्वच्छ पिए, पानी ख़राब होने पर पानी उबालकर पिए. दस्त की अंग्रेजी दवा से भी ज्यादा यह 101% फायदा करेंगे. इसके अलावा अगर आपका रोग ज्यादा बढ़ गया है तो डॉक्टर से जरूर मिले.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.