दिमाग की कमजोरी का इलाज, दिमाग की कमजोरी, दिमाग की नसों की कमजोरी, दिमाग की नसों का इलाज

110% दिमाग की कमजोरी और नसों को मजबूत करने के उपाय और इलाज

दिमाग की कमजोरी का इलाज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे ऐसे कुछ रामबाण घरेलु उपाय जिनके सेवन से आप अपने मस्तिष्क को स्वस्थ व दिमाग की नसों की कमजोरी को नष्ट कर सकेंगे. यह शिकायत आज के समय में आम से हो गई है, अधिक तनाव, गलत जीवन शैली आदि के कारण यह समस्या पैदा होती है. लेकिन चिंता की कोई बात नहीं आप आयुर्वेदिक नुस्खे से अपने दिमाग को मजबूत कर सकते है व अपनी बौद्धिक क्षमता को विकसित कर सकते है.

दिमाग की नसों व तंतुओ की कमजोरी को दूर करने के लिए सबसे पहला कदम होता है सही खान पान, थोड़ा व्यायाम, थोड़े प्राणायाम योग, थोड़ी दिमागी एक्सरसाइज, तर्क आदि बस अगर कोई भी व्यक्ति इन चीजों को नियमित रूप से करता है तो 2-3 महीने में उसके दिमागी कमजोरी ख़त्म हो जाएगी, वह एक विवेकशील बुद्धिशाली व्यक्ति बन जायेगा.

दिमाग की कमजोरी के कारण

  • अत्यधिक धूम्रपान या शराब का सेवन
  • ज्यादा दवाइयों का सेवन
  • ज्यादा नींद या कम नींद लेने से
  • अत्यधिक तनाव में रहने से
  • सर में चोंट के वजह से
  • किसी बीमारी के वजह से

दिमाग की कमजोरी के लक्षण

दिमाग की कमजोरी का इलाज, दिमाग की कमजोरी, दिमाग की नसों की कमजोरी

दिमाग की नसों की कमजोरी का इलाज

Dimag Ki Kamzori Ka Ilaj Bataye

  • दिमाग की कमज़ोरी के लिए 2-3 ब्राह्मी थोड़े से गर्म पानी के साथ मिक्स करके रोजाना लें, यह दिमाग की नसों को मजबूत करती है व दिमाग की सभी तरह की कमजोरियों को नष्ट करती है.
  • रोजाना एक सेब जरूर खाये या सेब का रस पिए. सेब में ऐसे गुण होते है जो मस्तिष्क की कमजोरी व नसों की कमजोरी को दूर करते है. इसका प्रयोग आप रात को भोजन करने के बाद भी कर सकते है. लेकिन सुबह एक सेब जरूर खाये.
  • जामुन भी दिमागी कमजोरी को दूर करने के लिए एक बेहतरीन उपाय है, क्योंकि कई शोधो में यह पाया गया है की रोजाना काले जामुन खाने से दिमाग कमजोर नहीं होता. यह वृद्ध अवस्था की दिमागी कमजोरी को भी ख़त्म करता है. इसके लिए आप रोजाना जामुन खाये या इसका रस पिए.
  • यह एक प्रसिद्द प्रयोग है, रोजाना रात को सोने से पहले थोड़े बादाम पानी में गीलाकर सो जाये व अगली सुबह इनकी छाल छीलकर खाले और ऊपर से दूध पि ले. यह मस्तिष्क को तेज करेगा, कमजोरी को दूर करेगा.
  • अखरोट का आकर ठीक हमारे मस्तिष्क के जैसा होता है, कई शोधो में यह परिणाम भी पाया गया है की अखरोट के सेवन से दिमागी की नसों की कमजोर दूर होती है व बुद्धि बढ़ती है. इसके प्रयोग को कई हजारो लोगों ने किया और परिणाम भी सकारात्मक ही पाया है. तो आप भी अखरोट रोजाना खाना शुरू करे दें.
  • रोजाना रात को सोने से पहले पुराने गाय के घी की 2-2 बून्द दोनों नाक के छिद्रों में डालें. इस छोटे से उपाय से दिमाग की कमजोरी का इलाज होता है, और सभी मानसिक परेशानियां इससे दूर होती है.

दिमाग की नसों की कमजोरी के इलाज के लिए शाम के समय 130 ग्राम शंखपुष्पी और ब्रह्मी 30 ग्राम इन दोनों को 3 लीटर पानी में डालकर रख दें, अब अगली सुबह इसे गैस पर रख कर उबाले. इसे तब तक उबाले जब तक की यह 3 लीटर पानी उबलकर 2500 लीटर न रह जाए फिर गैस बंद कर ले व ठंडा होने पर इसे छान लें. अब इसमें 5-6 kg शक्कर 1 ग्राम नीबू सत्व (सिट्रिक एसिड) मिला दें और फिर से इसे गैस पर रख कर उबालना शुरू करे.

अब इसे तब तक उबाले जब तक की यह गाढ़ा न हो जाए, जब इसमें थोड़ा गाढ़ापन आ जाये तो इसे गैस से उतार कर ठंडा होने के लिए छोड़ दें. किसी कांच के डिब्बे में इसे भरकर रख लें और रोजाना 1-2 चम्मच यह लेकर एक गिलास पानी में मिलाये और पिए. यह एक बेहद लाभकारी प्रयोग है जो मस्तिष्क के सभी रोगों को दूर करता है, दिमाग की व नसों की कमजोरी को नष्ट करने में यह एक बेहद सरल उपाय है.

  • इसके अलावा सुबह जल्दी उठना शुरू कर दें और 10-15 मिनट प्राणायाम भी करे. थोड़ी देर कपालभाति प्राणायाम और थोड़ी देर कपालभाति प्राणायाम इसके अलावा 2-5 मिनट ॐ का उच्चारण भी करे. यह आपके मस्तिष की शक्ति को जगाते है.

इस तरह आप बताये गए दिमाग की नसों कमजोरी का इलाज के उपाय brain weakness in Hindi का प्रयोग कर सकते है. दिमाग के सभी रोगों में यह उपाय बहुत फायदा करेंगे dimag ki kamzori ki dawa नियमित प्रयोग से आपकी याददाश्त भी बढ़ेगी. ऐसे कई व्यक्ति होते है जिनकी बचपन से ही दिमागी क्षमता का विकास नहीं हो पाटा, उनका दिमाग ठीक तरह से काम नहीं करता उनके लिए यह उपाय काफी कारगर साबित हो सकते है.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.

3 Comments

  1. 5.5 years old bacha hai
    Use bhi nak me desi ghee dal sakte hai… Usko brain injury hai.. Week bhi bahut hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.