bukhar ke lakshan, bukhar ke lakshan in hindi

बुखार के लक्षण क्या होते है ? और जाने सही घरेलु इलाज

यहां हम आपको बैक्टीरियल और वायरल बुखार के लक्षण बताएं और उपाय क्या होते है के बारे में पूरी जानकारी देंगे. इसके साथ ही यह भी बताएंगे की इसके क्या नकारात्मक नुकसान होते हैं, बच्चों बढ़ों और बुजुर्गों के लिए. बैक्टीरियल फीवर और वायरल फीवर के सिम्पटम् लगभग मिले जुले होते हैं, बस थोड़ा बहुत फर्क होता हैं.

  • वायरल बुखार में आंखे लाल होना, गला सुखना, ठिठुरन आदि. यह वायरल फीवर में बाहरी संक्रमण के वजह से होता है, गन्दा पानी पीना, झूठा पानी पीना, दूषित चीजे खाना, बीमार व्यक्ति से Sex और Kiss करना आदि. किसी चीज के जरिये संक्रमण में आने पर वायरल फीवर होता हैं.
  • सामान्य बुखार मौसमी बदलाव, बैक्टीरिया, थकान, रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमजोरी आदि से होता. या यूं समझे की जब भी आपको अपना शरीर गर्म व बुखार से ग्रसित दिखे तो समझ लें की यह शरीर अंदर किसी बैक्टीरिया से लड़ रहा हैं.

इस पोस्ट को पूरा निचे तक ध्यान से पड़ें ::

  • बुखार होना इसी बात की ओर इशारा करता हैं, जब हमारे शरीर में किसी भी रूप से बैक्टीरिया प्रवेश कर जाते हैं तो शरीर इन्हे बाहर निकालने व ख़त्म करने के लिए कार्य करना शुरू कर देता हैं जिससे इस क्रिया में शरीर का तापमान बढ़ जाता हैं, इसी क्रिया को बुखार के नाम से जाना जाता हैं.
  • हमारी ही छोटी-छोटी गलतियों के वजह सेबुखार आता हैं, इससे बचने के लिए हमे बस थोड़े सुधार की जरुरत हैं. हम यहां आपको बुखार से कैसे बचे व बचू इस बारे में पूरी सलाह देंगे, साथ ही बुखार से बचाउ और इसके लक्षण के बारे में पूरी तरह जानने की कोशिश करेंगे.

बार बार बुखार आना बहुत नुकसान करता हैं

  • एक साल में ही 4-5 बार बुखार आना सेहत के लिए अच्छा नहीं होता, खासकर बच्चों के लिए तो यह बहुत ही खतरनाक होता हैं. क्योंकि बच्चों का शरीर अभी नाजुक और growth करने वाला होता हैं, ऐसे में अगर बुखार बार बार आये तो शरीर क्षीण हो जाता हैं जिससे उनके शरीर की growth पर बहुत बुरा असर पड़ता हैं.
  • आपने भी देखा होगा की जिन लोगों की बचपन में ज्यादा सेहत ख़राब रही हैं उनकी फिर जवानी में कभी सेहत नही बन पाती. बहुत से व्यक्तियों की लंबाई नही बढ़ पाती, वजन नहीं बढ़ पाता, दुबलेपन के शिकार हो जाते हैं आदि यह सब इसी वजह से होता हैं. इसलिए अगर आप किसी बच्चे के पिता या मां हैं तो अपने बच्चे को बीमार न पड़ने दें.

बुखार के लक्षण बताएं क्या होते है

Bukhar Ke Lakshan Batao kya hai

bukhar ke lakshan, bukhar ke lakshan in hindi, fever symptoms in hindi

बुखार का सबसे सामान्य लक्षण हैं fever symptoms शरीर का गर्म होना, बुखार आने पर शुरुआत में पूरा शरीर हल्का गर्म हो जाता है, इसके साथ ही शारीरिक थकान आने लगती हैं.

  1. सर्दी होना
  2. खांसी होना
  3. पैर दर्द होना
  4. थकान महसूस होना
  5. जोड़ों में दर्द होना
  6. आंख जलने लगना
  7. पसीना आना
  8. भूख कम लगना
  9. भोजन करने का मन न होना
  10. डिहाइड्रेशन
  11. मानसिक तनाव

High fever symptoms – तेज बुखार 103 F (39.4 C) and 106 F (41.1 C) इतने तापमान के बुखार में यह लक्षण दिखाई देते हैं

  • भृम होना, दिमाग ठीक से काम नही कर पाता
  • उलझल होना
  • चिढचिढापन होना
  • आंखे लाल होना
  • शरीर से बहुत ज्यादा पसीना निकलना
  • तेज सर दर्द

तेज बुखार में सामान्य बुखार के सभी लक्षण तेज, तीव्र हो जाते हैं. ज्यादातर लोगों को सर्दी जुकाम से बुखार आता हैं. यानी शुरुआत में व्यक्ति को पहले सर्दी होती है फिर इसके साथ खांसी भी होने लगती है और धीरे-धीरे बुखार आ जाता हैं.

इस तरह आने वाला बुखार वैसे तो कोई ज्यादा खतरनाक नहीं होता लेकिन ज्यादा समय तक इसका इलाज न करवाया जाए तो यह टाइफाइड में तब्दील हो सकता हैं.

क्या आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हैं

  • बुखार आने का कारण हैं रोग प्रतिरोधक क्षमता. हमने आपको बुखार से जुड़े पिछले कई लेखों में बताया हैं की ऐसे कई लोग होते हैं जिनको सालों में बुखार आता हैं और ठीक इससे विपरीत कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनको 12 महीनो में 4-5 बार बुखार आ जाता हैं.
  • जब की यह दोनों व्यक्ति एक ही वातावरण में रह रहे हो, तब भी एक को सालों में बुखार आता हैं और एक को साल में चार पांच बार. खान-पान भी एक जैसा, रहते भी एक जगह पर, काम भी एक जैसा ही करते है उम्र भी एक जैसी है फिर दोनों में से एक को बुखार क्यों आता हैं.
  • हमे पता हैं, इस बिच आप के मन में यह विचार आया होगा की हो सकता हैं इनमे से एक व्यक्ति अपनी सेहत की पूरी देखभाल करता होगा, इसलिए उसे सालों में एक बार बुखार आता होगा. लेकिन अगर आपने ऐसा सोचा हैं तो आप गलत हैं.
  • जी इसके पीछे एक कारण होता हैं और वह हैं रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी बाहरी संक्रमणों से लड़ने की क्षमता और मौसम के परिवर्तन को झेलने की क्षमता. जिस व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा होती हैं उसे कोई भी बीमारी आसानी से नहीं हो सकती वहीँ जिसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होगी उसे जरा से मौसमी बदलाव से ही सर्दी जुकाम हो जायेगा. हमने ऐसे बहुत से लोगों से इस बारे में बात की हैं और जानने में आया की कई व्यक्ति शारीरिक क्षमता से बहुत कमजोर थे लेकिन उन्है आसानी से बुखार नहीं आता था, क्योंकि उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत मजबूत थी.

सर्दी जुकाम से आने वाले बुखार के लिए

  • अगर आपको बहुत सर्दी हो रही हो, और इस सर्दी की वजह से ही बुखार आया हो, या आपको ऐसा लग रहा हो की मुझे बुखार आएगा तो आप बेशक इस उपाय को आजमा सकते हैं.
  • थोड़ा सा अदरक लें, अब इसको कूटकर इसका रस निकाले. अदरक का छोटी आधी चम्मच रस मिलाये और इसमें शहद मिला दें. शहद आप अपने हिसाब से मिला सकते हैं. अगर अदरक का रस न निकल पा रहा हो तो अदरक को बारीक पीस कर शहद में मिलकर खा सकते हैं. इसे सुबह और शाम दोनों समय लेना होता हैं और इस लेने के बाद 1-2 घंटे तक भूलकर भी पानी न पिए.

बुखार के घरेलु उपाय

  • पहला उपाय हम बताएंगे तुलसी के पत्तों का, यह सुनने में बहुत साधारण लग रहा होगा लेकिन शायद आपको पता नहीं होगा की तुलसी में बुखार की दवा के जितने गुण होते हैं. हम तो ज्यादातर इन नुस्खों से ही बुखार को भगा देतें हैं. तुलसी का यह जो बुखार से बचने का उपाय हैं सबसे बेहतरीन हैं.
  • तो आप एक काम कीजिये रोजाना सुबह उठने के बाद, खाली पेट एक ग्लास पानी के साथ 3-4 तुलसी के पत्ते खाना शुरू कर दें. पत्तों को चबाये नहीं सीधे पानी के साथ निगल जाए, 2-3 सप्ताह के प्रयोग से आपके शरीर में जितने भी बैक्टीरिया होंगे सब मर जायेंगे. इस प्रयोग को रोजाना करते रहे जिंदगी भर फिर जिंदगी में आपको कभी बुखार और जुकाम नही होगा.
  • दूसरा उपाय हैं लहसुन की कली का, यह उपाय आप सिर्फ सर्दी के मौसम में ही अपना सकते हैं. यह उपाय जुकाम और बुखार के साथ साथ बहुत से शारीरिक स्वास्थ्य लाभ भी देगा, इससे आपकी सेक्स करने की क्षमता भी बढ़ेगी, त्वचा में निखार आएगा, पेट साफ़ रहेगा और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ेगी.
  • इसके लिए रोजाना रात को सोने से पहले लहसुन की 3-4 कलियों को अंगारे पर सेंक कर खाये. अंगारे को आप थोड़ी सी लकड़ी या गोबर के कंडे को जलाकर पा सकते हैं, लकड़ी या कंडे में आग लगा दें जब यह आग बुझ जाए और सिर्फ अंगारे ही रह जाए तो इनमे लहसुन की कलियों को सेंक लें. एक बात और याद रखे लहसुन को खाने के बाद 1-2 घंटे तक पानी बिलकुल भी न पिए. यह बुखार से बचाउ कैसे बचे का सदाचरण उपाय हैं.

डॉक्टर को कब दिखाए

  • जैसे ही आपको बुखार के शुरुआती लक्षण मालूम होने लगे आप डॉक्टर को दिखा सकते हैं, वैसे शुरुआत में आप आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खों को अपनाकर भी बुखार का इलाज कर सकते हैं. और अगर बुखार से आपकी तबियत ज्यादा खराब हैं तो फिर डॉक्टर को ही दिखाए.
  • डॉक्टर से Chek-up करवाने पर वह आपको 3-4 दिन की दवाइयों का कोर्स देंगे, इनको लेने पर 2 दिन के अंदर बुखार खत्म हो जायेगा, लेकिन आपको दवाई का पूरा कोर्स लेना हैं. क्योंकि इतनी जल्दी बुखार शरीर से पूरी तरह नहीं जाता हैं. यही गलती ज्यादातर लोग करते हैं जिसके बहुत बुरे अंजाम हो सकते हैं.
  • अगर इसको उपाय को दो बार लेने पर आपको फर्क न दिखे तो डॉक्टर को दिखा सकते हैं. वैसे हम भी इसका ही उपयोग करते हैं.

बुखार के समय रखे इन बातों का ध्यान

  • समय से दवाई लें.
  • दवाई लेने के बाद कम्बल ओढ़कर सो जाए और गर्मी निकाले.
  • दवाई लेने के बाद बीएड पर से बार बार न उठे.
  • ठंडी हवा में न जाए.
  • इस समय आपको आराम की ज्यादा जरुरत हैं इसलिए कोई काम न करे.
  • बुखार के समय सही खाना खाये, कैसा भोजन करे यह पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे.
  • इस पोस्ट का अगला पेज भी पड़ें, उसमे घर पर ही इलाज करने के आयुर्वेदिक उपाय बताये गए है. उसे आप एक बार जरूर पड़ें : NEXT PAGE

बुखार आने पर पूरी गर्मी निकाले, भूख न लगे तब भी कुछ न कुछ खाये, दवा लेते वक्त दूध के साथ ले. बाहर ठंडी हवा में न घूमे, आराम ज्यादा करे और तरल चीजों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करे.

उम्मीद हैं दोस्तों आपको बुखार के लक्षण और उपाय क्या है, bukhar ke lakshan batao kya hai के बारे में में जानकर बहुत अच्छा लगा होगा. इसके अलावा हमने और भी कई लेख बुखार पर लिखे है उनके जरिये आप बुखार आने घर पर ही उसे ठीक कर सकते है तो उन्हें भी जरूर-जरूर पड़ें.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.

20 Comments

  1. sir mera andar se sara badan jalta hai muh se gram sans ati hai ghbraht bhi hoti hai aur thakan bhi lagti hai

  2. 5 din se raat ke samay bukhar aa raha hai urine infection report me aaya hai bukhar bahut tez aata hai kya kare age14 saal hai

  3. Sir mujhe baar baar under se fever rehta hai. Ghabrahat dar or kamjori rehta hai or pura sharir dard karte rehta hai or dar ghabrahat bahot hota hai or kapkapi v..

  4. Sir mujhe khansi hoti he to kesi bhi upay aajma lu kesi bhi dawai kha lu lekin khansi nhi jati aati he to lagatar ab to zukham bukhar bhi hone Laga or sir me puri body me dard thakan bhi kripa karke upay bataye

  5. Ji aap iske liye ayurved ka sahara lein, apne najdiki patanjali store ya ayurvedic doctor ke paas jaaye wah bache ki immunity badhane ki dawa de denge. Hum aapki help chaah kar bhi nahi kar skenge kyonki wah bacha hai aur bina dekhe sahi ilaj usko nhi diya ja skta.

  6. SIR 5YRs ka bachcha hai use 15days bad regular fever hota sb dr.ko dikha liya bt khin se aram ni ata kya ap bta skte hai kya wajah hai uske bukhar kii hlp me

  7. aap is lekh ko padein aur yahan par jo adarak aur shahad ka upay diya hai use kariye –

  8. Sir muje 8 din se bar bar bukhar Aa raha h medicine lene pr bukhar utar jata h fir kuch ghante baad fir bukhar Aa raha h…ky karu

  9. यह हड्डी बुखार हो सकता हैं इस तरह के बुखार को दूर करने के लिए आप रोजाना तुलसी के पत्ते खाना शुरू कर दें और यह ऊपर रिलेटेड पोस्ट सेक्शन में जाकर बुखार से सम्बंधित अन्य सभी लेख पड़ें वहां पर हमने इसके इलाज के लिए कई उपाय दिए हैं.

  10. Sir mujhe ye 17 August se le kr avi tk 5 baar fever ho chuka h iska best medicine suggests kre sir please

  11. sir 1 mahine se he typhoid lekin dwa bhi li lekin thik nhi ho rha pairo me dard hota he or sir mai bhi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.