patanjali bukhar ki dawa

101% सभी बुखार का आयुर्वेदिक इलाज : बाबा रामदेव पतंजलि

 baba ramdev ka bukhar ke liye upay

पढ़िए जड़ी बूटी से बुखार का इलाज आयुर्वेदिक बाबा रामदेव का सभी तरह के बुखार ठीक करने, कम करने व उतारने के आयुर्वेदिक घरेलु उपाय व नुस्खे के बारे में. आप इनके जरिये सिर्फ एक खुराक में ही बुखार दूर कर सकते हैं. हमारे द्वारा बताये गए सभी उपाय की जगह आप इसे भी कर सकते हैं. क्योंकि यह उनसे ज्यादा असरकारी है.

आप इसकी जानकारी पतंजलि स्टोर पर भी प्राप्त कर सकते हैं. इस बुखार के इस उपाय को कैसे लें, इसकी खुराक, कितने दिन लें आदि इन सब के बारे में आप यह पहुंचकर बड़ी आसानी से पता कर सकते हैं. अब पढ़िए बुखार के लिए पतंजलि की आयुर्वेदिक दवा के बारे में.

बुखार के लिए सबसे बेस्ट दवाई हैं गिलोय, गिलोय तो हर घर में लगा लो. गिलोय पुरे हिंदुस्तान में हमने प्रचारित की हैं इसका जबरदस्त रिजल्ट भी आया हैं. गुड़हल, गुड़हरच सभी जगह इसे अलग-अलग नाम से पुकारा जाता हैं. पुरे हिंदुस्तान की भाषा में इसका नाम हैं. आप इसके बारे में पतंजलि स्टोर्स से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, और फिर इसे घर में लगा भी सकते हैं ayurvedic treatment of fever in Hindi at home.

giloy se bukhar ka ilaj

पतंजलि बुखार के लिए आयुर्वेदिक इलाज

Fever Treatment By Baba Ramdev in Hindi

  • कैसा भी बुखार हो इसका काढ़ा बनाकर पिलो और इसकी गोली भी देते हैं. जैसे एक आदि बच्चों को, बड़ों को एक गोली और बहुत ज्यादा तेज बुखार हो तो दो-दो गोली भी दे देतें हैं. इससे बुखार 99% तक ठीक होने की संभावना रहती हैं, इससे सामान्य बुखार ही नहीं डेंगू और चिकेनगुनिया भी इससे अच्छा होता हैं.
  • इतनी जबरदस्त हैं. हर साल पूरी दुनिया में करीब पांच करोड़ से ज्यादा लोग डेंगू से मर जाते हैं. और मेरा यह एक दावा ही नहीं हमने यह कर के दिखाया है. सैंकड़ों हजारों लोगो को तो में जनता हूं जिनको डेंगू हुआ था और उनको हमने ठीक किया है किस्से ??? सिर्फ गिलोय से.
  • एक तो बुखार अच्छा होता हैं इससे. देखो डेंगू में दो चीजें होती हैं. एक तो temperature, दूसरी चीज उनका ब्रेसिल डाउन चला जाता हैं और ब्रेसिल बढाओं तो भी बढ़ता नहीं हैं यह हो सकता हैं भगवान् करे किसी को कभी भी न हो डेंगू.

जैसे में योग करता हूं पुरे हिंदुस्तान में घूमता हूं आप को तो एक दो जगह के मच्छर खाते होंगे तो मेरी तो टेस्टिंग करने सब मच्छर आते हैं, मेरा खून का तो सभी जगह के मच्छर taste करते हैं.

और जितने भी पुराने बैमान लोग मरे हुए हैं “सब मच्छर बन कर के पैदा हो रहे हैं और मेरा खून पीते हैं अभी खैर! की यह बाबा जो हैं इसने हमे बहुत सताया हैं, वैसे हम तो किसी को नहीं सता रहे”.

लेकिन इतने तरह के मच्छर काटने पर भी हम को कभी बुखार तक भी नहीं होता. रोग प्रतिरोधक क्षमता आपकी मजबूत हो जाए तो फिर आपको ऐसी कोई भी प्रॉब्लम नहीं आएगी.

डेंगू, चिकिनगुन्या में भी कर सकते है यह उपाय

गिलोय 

  • खैर गिलोय सबसे अच्छी चीज हैं बुखार के लिए. तो एक तो इससे बुखार ठीक होगा, ब्रेसिल एक दम बढ़ जाएंगे, और ब्रेसिल को बढ़ाने के लिए तीन चीजें जरुरी हैं पहली गिलोय, दूसरा हितकुमारी और तीसरा हैं पपीते के पत्तों का रस वैसे गेहूं का रस भी इसमें बहुत मदद करता हैं.
  • ब्रेसिल तीन चार परिस्थितियों में कम होते हैं या ज्यादा होते हैं. कम और ज्यादा होना दोनों ही तरह से कैंसर कहलाता हैं. TLC, DLC, WBC, RBC जब बहुत ज्यादा कम हो जाए, बहुत ज्यादा डाउन चली जाए तो इसमें कैंसर की स्थिति बन जाती हैं.
  • जब बहुत ज्यादा डाउन चली जाती हैं ब्रेसिल तो उसको बोलते हैं अप्प्लास्टिक एनीमिया फिर उसमे महीने में दो चार बार खून चढ़ाना पढता हैं. और अगर यह क्रिटिकल हो जाए तो इससे आदमी मर भी जाता हैं.
Giloy Tree
  • मैंने पहले तो बहुत से डॉक्टर्स को भी अच्छा किया अप्प्लास्टिक एनीमिया का मेरा सबसे पहला पेशेंट्स था लखनऊ का, आज भी उनके सारे रिकॉर्ड मेरे पास में रखे हुए हैं. अप्प्लास्टिक एनीमिया था उनको मैंने उसे ठीक कर दिया. उसके बाद तो लाइन लगाकर के लोग मेरे पास आने लगे.
  • अब तो में सात साल के बच्चों से लेकर के सांठ साल के लोगों पर प्रयोग कर चूका हूं. डेंगू के रोगियों और किसी को जेनेटिकली भी ब्रेसिल कम हो जाते हैं और किसी के बाद में कम होते हैं. महिलाओ में भी कभी-कभी ब्रेसिल कम हो जाते हैं. तो ऐसे में उनको कहीं पर भी चोंट लगे तो काला-काला निशान पढ़ जाता हैं.

ब्रेसिल कम होने से नुकसान क्या हैं

  • ब्रेसिल कम होने से देखों एक तो होती हैं हमारी अर्थिस एक होती हैं आर्टरीज और एक होती है कैप्रिस तो इनका पूरा सिस्टम होता हैं जिसको नाड़ी तंत्र कहते हैं. जब हम स्वांस लेते हैं तो पहले ह्रदय में जाता हैं, ह्रदय से आर्टरियो, आर्टरियों से कैप्रिस में, केप्रिस से बाद मे आकर के फिर ह्रदय में आता हैं ऐसे ब्लड घूमता हैं.
  • तो यह जो ब्लड हैं यह शरीर में जाकर के फैलता है और सिकुड़ता हैं, तो यह ब्रेसिल कम हो जाए तो क्या होता हैं सारा ब्लड लीक होने लगता हैं, ब्रेन में हार्ट में, किडनी में, लिवर में और फिर आदमी मर जाएगा. तो ब्रेसिल कम होने से खून जो हैं वह पुरे शरीर में फेल जाएगा और आदमी मर जाएगा.
  • मौत के बहुत से कारण होते हैं उसमे नर्वस सिस्टम डाउन होना, लिवर का फैल होना, हार्ट का फैल होना, किडनी का फैल होना, ऐसे बहुत से कारण हैं लिवर, किडनी हार्ट आदि के तो आपरेशन कर लेते हैं. लेकिन ब्रेसिल का कोई आपरेशन नहीं होता हैं, इसीलिए उसमे आदमी मर जाता हैं.
  • तो यह ब्रेसिल को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छी ही गिलोय उसके बाद में हितकुमारी अलोएवेरा जिसको बोलते हैं पपीतों के पत्तों का रस वही चार पांच चम्मच, वही चार पांच चम्मच रस हितकुमारी का और चार पांच चम्मच गेहूं जवारे का रस का भी ले सकते हैं, इसमें गेहूं हो या जाऊ हो दोनों ही बारले हो दोनों ही काम आते हैं. यह बहुत अद्भुत काम करते हैं.
  • तो किसी को भी बुखार हो, कैसा भी बुखार हो आप गिलोय का प्रयोग करो, डेंगू में भी, चिकनगुनिया में भी, गिलोय एक डंडी होती हैं सभी को पता होगा, हितकुमारी का भी पता होगा.

बुखार के दवा पतंजलि बाबा रामदेव

  • और अगर बुखार बहुत ही ज्यादा हैं तो एक ज्वर नाशक क्वाथ हम देतें हैं आप उसका प्रयोग कर सकते हैं. ज्वर नाशक क्वाथ यह तो आपको एक ही खुराक में ठीक कर देता हैं. यह कड़वा बहुत होता हैं लेकिन यह इसके कड़वेपन से भी ज्यादा लाभदायक होता हैं.
  • यह ज्वर नाशक क्वाथ और ज्वर नाशक वटी सौ प्रतिशक काम करते हैं. तो में कह रहा था बच्चों को बुखार के लिए और प्रेग्नेंट लेडीज कोई भी इन दवाओं को ले सकता हैं. कोई नुकसान नहीं किसी का भी.

baba ramdev ki bukhar ke liye dawa

ऐसे ही ओर घरेलु नुस्खे के बारे में पड़ने के लिए आप इस पोस्ट का पिछले पेज भी पड़े जहां पर घरेलु तरीको के बारे में बताया गया है, आप उसे भी जरूर-जरूर पड़ें :NEXT PAGE

अगर आपको यह रामदेव बाबा की जड़ी बूटी व इनके द्वारा बताई गई खुराक के बारे में ठीक से समझ नहीं आया हो तो आप अपने शहर में पतंजलि स्टोर पर जाकर बुखार के इलाज के लिए दवा व घरेलु उपाय गिलोय के बारे में जानकर प्राप्त कर सकते हैं.

तो उम्मीद हैं आपको डेंगू, चिकनगुनिया, और सामान्य बुखार का इलाज जड़ी बूटी से, bukhar ka ilaj baba ramdev patanjali पढ़कर बहुत अच्छा लगा हो. इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि यह सभी लोगों तक पहुँच जाए और सामान्य व्यक्ति भी इसका फायदा उठा सके.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.

16 Comments

  1. Sir Meri TLC count 23000 ho gaye or mere jodo me bahut dard hota h last 7-8 dino se ye TLC count kaise km hogi or dard kaise theek hoga please btaye

  2. mujhe soraisis he 3 sal ho gaye he bahut se doctor ko bhi dikhaya he or 6 month patanjali se bhi ilaj karvaya he par bimari badhti ja rahi he kya karu

  3. Aap Gehun ke jaware ka rs bnaakar rojana subah pina shuru kare 2 mahine tk ise piye to bukhar jad se khatm ho jayega. Iske alawa aap giloy ka rs bhi le skte hai. Lekin Gehun Ke Jaware ko aap ghar par hi ugaakar unka rs bna skte hai yah muft me hoga isliye.

  4. mujhe 2010 se lagatar bukhar aata hain sareer ke undar bhukhar rahta hain.aur liver bhi bad jaata hain.2 baar jodiss bhi ho chuka hain.sareer me hamesha weakness rahta hain .wajan badta hi nahi hain.dwakarta hoon jab tak dwa chalti hain tb tk thok rahta hain.ukse baad phir ho jata hain.pless iska koyi treatment bataye.

  5. Dost aap Related Post section me jaakar bukhar se jude aur bhi lekh padein, Hmne aur bhi lekh likhe wahan diye gaye upay kariye aapka bukhar jarur jaayega.

  6. हमने बार बार बुखार आने पर एक लेख लिखा हैं और उसमे ढेर सारे उपाय बताये भी हैं आप उसे पढ़िए वह आपको Related Post Section में मिलजायेगा.

  7. mera beta 1.9months ka h uska fever nai hat raha medicine b chal rai h lekin bar bar hojata hai. blood test karvaya hemoglobin 7.7 hai. iron bahaut kam h…. diet b sai derahe h ab lekin fever horaja h bar bar… plzz aap kuch suggest kijiye jisse fever utar jaye

  8. अगर टाइफाइड को हुए थोड़ा समय हो गया हैं तो डॉक्टर से ही दवाई लिखवाये, ताकि कम समय में इसे जड़ से मिटाया जा सके.

  9. बाबा रामदेव जी के उपाय को आजमाकर देखलो, यह टाइफाइड को हमेशा के लिए दूर करने ख़त्म करने के लिए हैं. Permanent treatment.

  10. mujhe bahut dino se typhoid bukhar hai dawai khata hu chhut jaata hai 3-4 mahine me fir ho jaata hai.
    lagbhag 2-3 saalon se aisa ho raha hai
    isake liye hume kaun si medicine leni paregi!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.