totlapan ka ilaj, totlapan ka ilaj in hindi, haklana ka ilaj

तुरंत हकलाहट और तोतलापन बंद करने का इलाज और दवा

हकलाने तुतलाना का इलाज और दवा यह समस्या शर्मसार कर देने वाली होती है, अक्सर बच्चो में ही देखि जाती है. अगर इसका समय पर उपचार न करवाया जाये तो यह फिर लम्बे समय तक बनी रहती है.

बचपन में तो हकलाने व तुतलाने एक मजे की तरह लगता है लेकिन बड़ी उम्र में यह मजाक का पात्र बना देता है. कई लोग तोतलापन की अंग्रेजी दवा मेडिसिन भी लेते है लेकिन वह भी ज्यादा प्रभावकारी सिद्ध नहीं होती, लेकिन यहां हम जो यह सही नुस्खों की जानकारी दे रहे है इसके प्रयोग से आपको पूरा पूरा लाभ होगा.

हकलाने के कारण

हकलाने के लक्षण

  • तुतलाना और हकलाने के लक्षण बड़े सामान्य होते है है जैसे बोलते समय शब्दों का ठीक से उच्चारण नहीं कर पाना, कुछ शब्दों को बोल न पाना, बोलते वक्त आँखे बंद होना, होंठों में कम्पन्न पैदा होना आदि ठीक से नहीं बोल पाना को ही हम तोतलापन, तुतलाना हकलाने का रोग कहते है.

totlapan ka ilaj, totlapan ka ilaj in hindi,

  • पोस्ट को पूरा ध्यान से आखिर एन्ड तक पड़ें .

हम यहां जो देसी उपाय व आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे बता रहे है इनका अगर आप नियमित रूप से रोजाना सेवन करते है तो धीरे-धीरे तोतलापन की शिकायत ख़त्म हो जाएगी , यह रामबाण साफ़ बोलने के उपाय है इनसे आपको पूरी-पूरी मदद होगी. अगर आपने सही से प्रयोग किया तो आपको किसी भी थेरेपी की जरूरत नहीं पड़ेगी.

हकलाने तुतलाना का इलाज की दवा और उपाय

Totlapan Stammering Treatment in Hindi

  • आंवला – अगर रोगी नियमित रूप से 2 ताज़ा हरे आंवला रोजाना चबाकर खाये तो कुछ ही दिनों में उसके तोतलापन की शिकायत पूरी तरह से गायब हो जाती है, इसका प्रयोग महीनो तक करते रहना चाहिए जिससे यह रोग जड़ से समाप्त हो जाता है. इससे आवाज़ साफ़ हो जाती है. (हकलाने और तुतलाना के लिए इस प्रयोग 2-3 महीने तक रोजाना करे)
  • बादाम की गिरी और 7 कालीमिर्च दोनों को मिलाकर जरा सा पानी डालकर अच्छे से घिस लें व चटनी जैसा बना लें. अब इसमें पीसी बारीक़ मिश्री मिलाकर रोजाना सुबह के समय खाली पेट रहने पर चाटें, कुछ ही दिनों के प्रयोग से तोतलापन हकलाने का इलाज हो जायेगा.
  • अगर कोई ठीक से साफ़ साफ़ नहीं बोल पता हो तो उसे यह उपाय भी करना चाहिए. इसके सिर्फ 2 कालीमिर्च मुंह में रख कर चूसते रहे, ऐसा आपको दिन में 2-3 बार रोजाना करना चाहिए इस प्रयोग को लम्बे समय तक करे, यह एक बेहतरीन आवाज़ साफ़ करने का उपाय है.
  • हकलाने की दवा है यह, 6 ग्राम सौंफ ले और इसे अच्छे से कूटकर लगभग 350 ग्राम पानी में अच्छे से उबाल लें. इसे तब तक उबाले जब तक की पानी उबलकर 100 ग्राम न रह जाये. फिर इस पानी में 55 ग्राम मिश्री और 255 ग्राम गाय का दूध मिलाकर रोजाना रात को सोने से पहले पिए. इस प्रयोग से हकलाकर बोलना दूर हो जाता है, यह एक रामबाण उपाय है.
  • छुहारे तोतलापन के इलाज में बहुत ही असरकारी सिद्ध होते है, हकलाहट को ख़त्म करते है. इसके लिए आपको रोजाना 3 छुहारे दूध के साथ खाने है, इसे रात को करे तो ज्यादा अच्छा रहेगा क्युकी इस प्रयोग को करने के एक डेढ़ घंटे बाद तक पानी नहीं पीना होता है. इसके अलावा दिन में भी छुहारे खाते रहे, यह एक आयुर्वेदिक इलाज है.
  • हकलाने से छुटकारा पाने के लिए आप रोजाना रात को सोने से पहले एक कटोरे पानी में 7-8 बादाम डालकर छोड़ दें, फिर सुबह इनकी ऊपरी छाल को निकाल कर पीस लें व पेस्ट जैसा बनाकर 25-30 ग्राम मक्खन में बादाम के पेस्ट को मिलाकर रोजाना खाये. इस प्रयोग से मानसिक क्षमता भी बढ़ती है, आंखे तेज होती है साथ ही हकलाने, तुतलाना से छुटकारा भी मिलता है.
  • आंवले का प्रयोग इसमें हकलाने की आयुर्वेदिक मेडिसिन की तरह कारगर होती है, इसलिए एक अलावा रोजाना खाना बिकलूना भूले.

दवा है यह सभी घरेलु उपाय

  • Voees syrup मेडिकल से खरीद लें और बच्चों को एक चम्मच सुबह शाम दें और वयस्क ज्यादा उम्र के व्यक्ति को दो चम्मच सुबह शाम यह सिरप दें.
  • बाबा रामदेव पतंजलि की दवा में आप मुलेठी चूर्ण 1/2 चम्मच शहद के साथ दिन में दो बार दें और खदिरा सिरप पिए. योग में अनुलोम विलोमा और कपालभाति करे. इसके अलावा शब्दों को बोलने की प्रैक्टिस करे. सिंहासन रोजाना करे.
  • 9-10 दाने कालीमिर्च के और 7 बादाम को अच्छे से मिलाकर बारीक़ कर ले इसमें जरा सी मिश्री को भी बारीक़ करके मिला ले और खाले. इस तरह रोजाना इस प्रयोग को करने से अटक अटक कर बोलने का उपचार हो जाता है. अतः जिसे भी अटक-अटक कर बोलने की प्रॉब्लम हो वह इसे जरूर करे.
  • हकलाने तुतलाना का उपचार करने के लिए 7 दिन में 3 बार ब्राह्मी तेल को हल्का गर्म करके 15-20 मिनट तक सर पर अच्छे मालिश करे, तो 100% इससे हकलाने और तुतलाना में लाभ होता है, तुतलाने की दवा की तरह फायदा करता है.
    रोजाना सुबह खली पेट कालीमिर्च के कुछ दानो को मक्खन में मिलाकर खाने से भी तुतलाना बंद हो जाता है.
  • तोतलापन दूर करने के उपाय में ए, ई, आई, ओ, यु, इन शब्दों को रोजाना एकांत में जाकर एक-एक कर के जोर जोर से मंत्र की तरह बोले.
  • रोजाना सुबह और शाम जिस तरह शेर दहाड़ता है, ठीक उसी स्थिति में बैठकर अपने मुंह को पहला : पूरी तरह से खोले जीभ को बाहर निकाले. आपको दाहड़ने की जरूरत नहीं है आप सिर्फ अपने मुंह को पूरी तरह खोल ले ताकि मुंह की सारी मांपेशियों का अच्छे से व्यायाम हो जाये यह तुतलाना हकलाने का योग है.

  • दूसरा : ऐसे ही बैठे रहे वापस पुरे मुंह को खोले और अपनी जीभ को मोड़कर मुंह के अंदर ले जाए, आपसे जितना हो सके अंदर ले जाये और कुछ देर वैसे ही जीभ को रहने दे. इस तुतलाना के योग को दिन में आप कई बार कर सकते है. हकलाने जैसी स्थिति बिलकुल ठीक हो जाती है.

तुतलाना का इलाज, हकलाने की दवा, हकलाने का इलाज

  • हकलाने के रोग में अमलतास का गुदा व हरा धनिया दोनों को मिक्सर में पीसकर रस बनाये और 20-25 दिनों तक रोजाना पिए.
  • तुतलाना की समस्या रहने पर हमेशा जब भी बोले तो आराम-आराम से एक-एक शब्द बोले
  • प्रक्टिसे के लिए रोजाना books पड़ें, इससे हकलाहट की आदत ख़त्म होगी
  • OM शब्द का रोजाना उच्चारण करे
  • अपना होंसला बनाये रखे, लोग हँसते है तो हंसने दें उस पर ध्यान न दें
  • आईने के सामने खड़े होकर बोलने का अभ्यास भी करे

इस तरह आप बताये गए इन सभी नुस्खों को नियमित रूप से करे, और जो पतंजलि में दवा और सिरप बताई है उसका भी सेवन करे. इसके अलावा अकेले जाकर तेज-तेज जल्दी से बोलने का अभ्यास भी करते रहे. अगर आप ऐसा ही सही तरीके से करते रहे तो जल्द ही आपको तोतलापन से छुटकारा मिल जायेगा.

इस तरह आपको किसी भी तरह की थेरेपी करवाने की जरूरत नहीं पड़ेगीं, रोजाना इन घरेलु नुस्खे का प्रयोग करे व बताये गए योग व्यायाम भी करे. तुतलाना हकलाने का इलाज की दवा stammering treatment tips in Hindi से आपको 101% लाभ होगा व जल्द ही आपकी आवाज़ साफ़ हो जाएगी. रोजाना आंवला खाये, ब्राह्मी तेल की मालिश करे व बादाम के प्रयोगो पर भी ध्यान दें. आप बताये गई बातों का ध्यान रखे और यह उपाय करते है तो फिर नियम से करे तो आप फर्क थोड़े समय में ही नजर आने लगेगा.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.

7 Comments

  1. Sir mujhe bolne me dikkat aati hai jab bhi me kuch bolta hu haklata hu or totlata hu esse mujhe bahot bekkar lgta hai or mujhe sarmindgi muhshush hoti hai pls sir help kariye meri oi se medisin bta dijiye mujhe ye mere contect number hai 6260858248

  2. Sir Mera naam Sujeet kumar
    West champaran, Bihar se hu.
    Sir mujhe aap ka Hindi Gharelu nuske Pad ke santusti mila hai
    Or yeh upay bahut hi Accha hai.
    Main ise flow karta hu.

  3. Mera naam Ramesh hai main up se hoon main aapse help mang raha hoon mein Awaz kabhi kabhi bolte Mein Awaz Pyaar Ki Jati Hai Meri aap se milna Chahta Hoon ya Mujhe Koi

  4. Sir Mera Nam monu hai aur hum akele ya aam logo se thik bolte hai lakin jab koi interview me jara hu to haklane lagta hu ya koi lecture ho to bol nahi pata hu please help me sir koi medicine hai to bataiye my no 9457510263

  5. Sir mughe Kuch samgh me nhi aa raha hai mughe alag Se Kuch tarika samghaye.
    Mera nam Aditya Raj hai mughe bolane me Kuch problem hai. Mughe bahut dikat ho rha hai. Please help me Mera whatsaap number par mera sawal ka jabab de . 9334619398

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.