heart disease in hindi, kamzor dil, hraday rog, kamjor dil ka ilaj

दिल की बीमारी और कमजोरी का इलाज 21 नुस्खे : Heart Disease

दिल की बीमारी का इलाज बताये हृदय रोग यानि दिल का कमजोर होने से से हार्ट अटैक, दिल की बीमारी आदि जैसे कई रोग पैदा होते हैं, और यही कमज़ोर दिल रोगी को मृत्यु के द्वार तक ले जाता हैं. कई लोग इसके उपचार के लिए दिल की दवा टेबलेट्स आदि का प्रयोग करते है लेकिन यह उतना लाभ नहीं करती है.

और आपको इनका प्रयोग करने की जरुरत भी क्या है जब हमारे पास दिल की कमजोरी को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे हो जिनसे आप घर पर ही इस हार्ट की बीमारी को ठीक कर सकते हो तो आइये जाने इसी के बारे में.

दिल की बीमारी के लक्षण

  • छाती में असहज दबाव महसूस होना
  • छाती में tightness महसूस होना
  • मितली होना
  • हृदय में जलन
  • पाचन समबंधी समस्या
  • हाथों में दर्द होना
  • छाती में दर्द होना
  • पसीना ज्यादा आना 
  • तलवों, टखनों आदि पैरों में सूजन होना
  • कमर दर्द (जाने – कमर दर्द का इलाज)
  • चक्कर आना
  • सांस लेते वक्त दिक्क्त आना
  • सर घूमना
  • अत्यधिक थकान महसूस होना

आदि यह सभी कमज़ोर दिल के लक्षण है, इसके अलावा हार्ट अटैक आदि के जो लक्षण होते हैं वह भी इन्हीं से सम्बंधित होते हैं. दिल की कमजोरी ज्यादातर अत्यधिक तनाव में रहने से, नकारात्मक सोच रखने से, पौष्टिक आहार न लेने से, बीड़ी सिगरेट का सेवन करना, नशीली चीजों का सेवन करना आदि अन्य कारणों से होती हैं, हार्ट की बीमारी से बचे रहने के लिए इन चीजों का सेवन आज ही छोड़ें remedies for heart ki bimari ka ilaj kya hai batao weakness treatment in Hindi.

heart disease in hindi

  1. भोजन में सरसों के तेल का प्रयोग करे
  2. रोजाना सुबह खाली पेट एक लहसुन निगल जाए
  3. 1-2 चम्मच शहद का रोजाना सेवन करे
  4. आंवले का मुरब्बा भी खाये
  5. लोकि की सब्जी व लोकि का रस पिए
  6. अनार का रस भी पिए यह भी परम लाभकारी होता है
  7. फैटी एसिड का सेवन न करे

जरुरत के मुताबिक सूखे आंवलों को कूट पीसकर बारीक चूर्ण बना लें और उसमे बराबर वजन पीसी हुई मिश्री मिलाकर किसी कांच के बर्तन में रख दें. रोजाना सुबह खाली पेट 6 ग्राम दो चम्मच भर चूर्ण को पानी के साथ फांक लेने से कुछ ही दिनों में हृदय के समस्त रोग दूर हो जाते हैं. विशेषकर दिल की धड़कन, दिल की कमज़ोरी आदि इस दिल की बीमारी के घरेलु नुस्खे से हो जाता हैं.

  • पोस्ट को पूरा ध्यान से पड़ें, जल्दबाजी न करे.

dil ki bimari ka ilaj, heart ki bimari ka ilaj, dil ki bimari ka ilaj in hindi

दिल की बीमारी का इलाज क्या है

Dil Ki Kamzori ka Ilaj Bataye Kya hai

  • सेब का मुरब्बा रोजाना सेवन करने से हृदय की दिल की कमज़ोरी दूर हो जाती हैं. इसके लिए 15-20 दिन में ही कमजोरी व दिल का बैठना ठीक हो जाता हैं.
  • कमज़ोर दिल के लिए 4 रत्ती जड़वार को शिकंजी के साथ रोजाना सेवन करने से हार्ट की कमज़ोर मिट जाती है.
  • आधा पेट भोजन करने के बाद हरे आंवलों का रस 35 ग्राम पानी में मिलाकर पि लें, इसके बाद फिर भोजन करा शुरू करे. यह दिल की कमजोरी का उपचार  करता हैं. इस प्रकार 21 दिन इस प्रयोग को करने से हृदय मस्तिष्क संबंधी सभी कमजोरी मिट जाती हैं.
  • हारसिंगार पौधे के फूलों की डंडी हटाकर के फूलों से दुगुनी मात्रा में पीसी हुई शक्कर मिलाकर 1 शीशी में भरकर धुप में रख दें. 40 दिन बाद इस गुलकंद को 20 ग्राम की मात्रा में रोजाना सुबह शाम खाने पर गर्मी से हृदय की बढ़ी हुई धड़कन मिटकर दिल मजबूत होता हैं, यह असरदार दिल को मजबूत करने का उपाय हैं.
  • दिल की बीमारी व कमजोरी दूर करने के लिए नीबू में विशेष गुण होते है. इसके निरंतर प्रयोग से रक्त वाहनियों में लचक और कोमलता आती है तथा इनकी कठोरता दूर होती है. इसीलिए हाई ब्लड प्रेशर जैसे रोगों को दूर करने में नीबू उपयोगी है. नीबू के सेवन से वृद्धस्वस्था तक हृदय शक्तिशाली बना रहता है और हार्ट अटैक का भय नहीं रहता है. कैसा भी ब्लड प्रेशर हो पानी में नीबू निचोड़कर दिन में कई बार पिने से लाभ होता हैं. सुबह एक नीबू का रस गर्म पानी में मिलाकर पीना हृदय रोग में बहुत ही प्रभावकारी होता है.
  • ऐसे करे दिल की बीमारी का इलाज आप 100 ग्राम अमरुद में विटामिन C 299 से 400 मि.ग्रा तक होता है. यह दिल को ताकत देता है. स्फूर्ति और शक्ति देता है. यह सबसे आसान सा दिल की कमजोरी का उपाय है जो की दिल की कमज़ोरी को मिटाता है. इसके साथ ही अगर लीची का सेवन भी हृदय का रोगी रोजाना करे तो यह भी उतने ही लाभ देती हैं.
  • उड़द का यह उपाय भी हार्ट की बीमारी का इलाज करता है – रात को आधा छटांक उड़द की दाल भिगो दें तथा सुबह के समय इसे पीसकर दूध और मिश्री मिलाकर पिए. यह हृदय, मस्तिष्क और वीर्य के लिए बहुत ही लाभकारी प्रयोग है. इसे अच्छी पाचनशक्ति वाले लोग ही सेवन करे. छिलके सहित उड़द की दाल खाने से शारीरिक मांस में वृध्दि होती है.
  • हींग भी कमज़ोर दिल को शक्ति देती है और खून को जमने से रोकती है. हींग के सेवन से रक्तसंचार सरलतापूर्वक होता है. कमज़ोर दिल वालों के लिए हींग अत्यंत लाभदायक होता हैं.
  • सोंठ का गर्म काढ़ा (क्वाथ) नमक मिलाकर रोजाना एक प्याला सेवन करने से हृदय की दुर्बलता दिल अधिक धड़कना, दिल बैठने सा लगना जैसे कष्ट दूर हो जाते हैं.
  • एक चम्मच शहद रोजाना सेवन करने से हृदय की कमज़ोरी मिट जाती हैं. एक चम्मच शहद में 100 कैलोरी शक्ति होती है.
  • सर्दी के मौसम में तुलसी के सात पत्ते, चार नाग कालीमिर्च और चार नाग बादाम लेकर सभी को ठंडाई की भांति पीसकर आधा कप पानी में घोलकर रोजाना पिने से हार्ट की बीमारी व कमज़ोरी दूर होती है. इसके अलावा अन्य हृदय रोग का इलाज भी यह उपाय करता हैं.
  • शहद दिल की कमज़ोरी मिटाने के लिए रामबाण सिद्ध होता है, यह हृदय को फैल होने से भी बचाता है. सर्दी या कमजोरी के कारण जब दिल की धड़कन तेज हो जाए, दम-सा घुटने लगे, तो 2 चम्मच शहद सेवन करने से तुरंत नई शक्ति मिलती हैं. कमज़ोरी, दिल बैठना आदि कष्ट होने पर एक चम्मच शहद गर्म पानी में डालकर पिलाये.
  • जब किसी को हार्ट अटैक दिल का दौरा पड़ने लगे तो लहसुन की चार पांच कलियों को तुरंत चबा लेना चाहिए. ऐसा करने से हार्ट फ़ैल नहीं होगा. इसके बाद लहसुन दूध में उबालकर लेते रहना चाहिए. हृदय रोग में लहसुन देते रहने से पेट में वायु निकलकर हृदय का दबाव हल्का हो जाता है. इससे हृदय को बल मिलता हैं.
  • गुड़ से दिल की कमजोरी का इलाज -: गुड़ और घी मिलाकर खाने से भी बहुत लाभ होता है.
  • 5 ग्राम दाना मेथी लेकर उसका काढ़ा बना लें. इसमें शहद मिलाकर खाने से पुराने से पुराना दिल का रोग भी ठीक हो जाता हैं.
  • आंवले का चूर्ण रात को सोते समय दूध के साथ सेवन करने से यह उपाय दिल की बिमारियों में अचूक लाभ करता है.
  • गाजर का मुरब्बा व 200 ग्राम गाजर और 100 ग्राम पालक का रस मिलाकर पिने से भी समस्या उपचार होता हैं.
  • दिल की जलन के इलाज करने के लिए मिश्री के साथ पकी हुई इमली का रस पिलाये, तुरंत लाभ होगा.
  • दिल की बीमारी में क्या खाये – अरबी की सब्जी 25 ग्राम रोजाना कहते रहने से हृदय रोगों में रामबाण लाभ होता है, इसलिए अरबी जरूर खाना चाहिए. इसके साथ ही काला चना भी दिल के रोगियों को खाने चाहिए.

हृदय रोग दिल की कमजोरी के घरेलु नुस्खे

  • हृदय और रक्त संस्थान, रक्त वाहिनियों और कैपिलरीज को शक्तिशाली बनाने में मौसमी का प्रयोग बहुत फायदेमन्द होता हैं. मौसमी का रस रक्त शोधक भी है, अतः: यह चर्म रोगों में भी लाभकारी होता है.
  • अर्जुन वृक्ष की छाल का रस 4 किलो, शुद्ध घी एक किलो लें तथा इन दोनों को मिलाकर पकाये. जब रस जलकर घी मात्रा शेष रह जाए, तब उतारकर छान लें. इस घी को 10 ग्राम की मात्रा में रोजाना दूध में मिलाकर पिने से दिल का दर्द व  कमज़ोरी अन्य बीमारी दूर हो जाते हैं.
  •  10 बीज निकाले हुए मुनक्के, 10 छुहारे, 10 छोटी इलाइची के दाने और हिरा हींग और दालचीनी 10-10 ग्राम लेकर पीसकर एक शीशी में सुरक्षित रख लें. इस दवा को एक चुटकी में जितना आए उतनी मात्रा में लेकर मुख में रखकर घुलने दें. प्रयोग दिन में 4-5 बार करें. यह दिल को शक्ति प्रदान करने का सबसे तेज और असरदार उपाय हैं.

दोस्तों आप यह ऊपर जो पोस्ट दिए है, इनमे जो दिल की धड़कन के बारे में पोस्ट है वह जरूर पड़ें. इसके अलावा बाकी पोस्ट भी देखें.

अगर आप यहाँ दिए उपाय को नियमित रूप से करते है तो आपका हृदय रोग बिलकुल ठीक हो जायेगा. इसके लिए प्राकृतिक जीवनशैली जीना भी बहुत जरुरी है और साथ ही उन चीजों से बचना भी जरुरी है जिनसे दिल कमजोर होता है. इसलिए बताई गई बातो पर ध्यान दें.

दोस्तों इस तरह आप घर पर ही इन दिल की कमजोरी का इलाज, heart ki bimari ka ilaj kya hai को कर सकते हैं यह सभी दिल की सभी बिमारियों में प्रयोग किये जा सकते हैं और यह सभी हृदय रोग में रामबाण हैं. साथ ही तनाव से बचे, स्मोकिंग, अल्कोहल आदि भी न करे. आप इसमें आंवले का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करे.

dil ki bimari ke gharelu nuskhe, heart ki bimari ke gharelu nuskhe, heart ki kamjori ka ilaj

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.

3 Comments

  1. Sir mere papa ke heart ne Kam karna km kr diya hai.. iske liye kya kare?? Please sir answer me please

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.